15Apr
By: mindplus On: April 15, 2019 In: Disorder

हमारे बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य हम सभी के लिए एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय है। तथ्य यह है, कई मानसिक विकार बचपन या किशोरावस्था में अपनी शुरुआत करते है।

भावात्मक विकार एक मानसिक विकार है जो किसी की भावनाओं को बहुत परेशान करता है। मस्तिष्क असामान्यताएं बच्चों में भावनात्मक कठिनाइयों का कारण नहीं हैं। यहां भावनाओं और विचारों पर बुरा असर पड़ता है। बच्चे के मन में मनोवैज्ञानिक बदलाव होते रहतें हैं। बच्चों में भावनात्मक कठिनाइयों का एक लंबे समय की अवधि में अपने कई लक्षण दिखा रहा हो जैसे उनकी पढ़ाई, सामाजिक कौशल और सामांय दिनचर्या में उनकी रुचि को प्रभावित करने लगता है।

यह भी एक कारण हो सकते है।

  • सीखने में असमर्थता-हाल ही में सीखी गई चीजों को याद करने में असमर्थ
  • दोस्तों, परिवार के सदस्यों और शिक्षकों के साथ संतोषजनक पारस्परिक संबंधों के निर्माण में कमी।
  • सामांय परिस्थितियों में अनुपयुक्त व्यवहार या भावनाएँ।
  • लगातार दुखी या उदास रहना ।
  • शारीरिक लक्षण या व्यक्तिगत या स्कूल की समस्याओं के साथ जुड़े डर को विकसित करने की प्रवृत्ति

भावनात्मक कठिनाइयों के साथ बच्चों में लक्षण

  • चिंता
  • अवसाद
  • बदमाशी
  • जब्ती
  • दुरुपयोग
  • परीक्षा फोबिया

इन भावनात्मक कठिनाइयों आगे कुछ विशिष्ट स्थितियों के लिए नेतृत्व:

  • घबराहट की बीमारियां
  • द्विध्रुवी विकार (कई बार manic-अवसाद कहा जाता है)
  • आचरण विकारों
  • भोजन विकार
  • जुनूनी बाध्यकारी विकार (OCD)
  • साइकोटिक विकार

Leave reply:

Your email address will not be published. Required fields are marked *